logo

बी एस एन एल एम्पलाईज यूनियन
मध्यप्रदेश परिमंडल

चलो भोपाल... चलो भोपाल... चलो भोपाल...

27 मई 2017 को "सीजीएम ऑफिस पर हल्ला बोल"

विशाल-विराट धरना एवं जंगी प्रदर्शन

बीएसएनएल रिटायरिज़ को कॅश मेडिकल अलाउंस हेतु ऑप्शन प्रक्रिया में देरी के विरोध में दिए गए पत्र पर कार्यवाही

ज्ञातव्य है कि  बीएसएनएल ईयू के लगातार प्रयासों के फलस्वरूप रिटायर्ड साथियों की आऊटडोर मेडिकल बिल  प्रस्तुत करने की परेशानियों के मद्दे नज़र कॉर्पोरेट ऑफिस द्वारा उनके लिए बगैर वाउचर मेडिकल अलाउंस के भुगतान के आदेश जारी कर दिए गए हैं। आदेश के तहत बाह्य मेडिकल बिल हेतु देय राशि (एडमिसिबिल अमाउंट) की 50% राशि का भुगतान पूर्ववत 4 किश्तों में किया जायेगा। इस हेतु कोई बिल प्रस्तुत नहीं करना होगा।

इस सुविधा के लिए इच्छुक रिटायर्ड साथियों को ऑप्शन देना है। हमारे कई साथियों ने शिकायत की थी कि उन्हें ऑप्शन फॉर्म हेतु दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कुछ एसएसए में इस बाबद कोई जानकारी ही नही थी तो कुछ में ऑप्शन फॉर्म  उपलब्ध नही थे ।

इन परेशानियों के मद्देनजर परिमंडल सचिव कॉम प्रकाश शर्मा ने ऑप्शन प्रक्रिया में तत्परता की मांग करते हुए मुख्य महाप्रबंधक को पत्र लिखा था।

बीएसएनएल ईयू के पत्र पर त्वरित कार्यवाही करते हुए परिमंडल प्रबंधन ने सभी एसएसए प्रमुखों को 15.6.2017 तक ऑप्शन प्रक्रिया पूर्ण करने हेतु निर्देशित किया है। पत्र के साथ ऑप्शन फॉर्म का प्रारूप भी संलग्न है। हमारे द्वारा दिए गए सुजाव अनुसार प्रक्रिया निर्धारित समायावधि में पूर्ण करने हेतु परिमंडल कार्यालय में एक नोडल ऑफिसर भी नियुक्त किया है।

परिमंडल प्रबंधन की इस प्रकरण में तत्परता प्रशंसनीय है।

डाऊनलोड कीजिए

परिमंडल प्रबंधन द्वारा हमारा एजेंडा सभी एसएसए को प्रेषित...जिला सचिव दबाव बनाएं

बीएसएनएल ईयू द्वारा प्रदेश स्तर पर किए जा रहे आंदोलन के दो सफल चरण पश्चात परिमंडल प्रबंधन हरकत में आया है। सभी एसएसए प्रमुखों को एजेंडा प्रेषित कर हमारे एजेंडे में शामिल मुद्दों पर कार्यवाही करने एवं 25.5.2017 तक कंप्लायंस रिपोर्ट देने हेतु निर्देशित किया गया है।

जिला सचिवों से अनुरोध है कि अपने एसएसए प्रमुखों से त्वरित संपर्क कर एजेंडे पर बिंदुवार कार्यवाही करने हेतु दबाव बनाएं।

25.5.2017 को सर्कल प्रबंधन से चर्चा...

परिमंडल कार्यालय से जारी पत्र के अनुसार  बीएसएनएल ईयू के प्रतिनिधि मंडल से परिमंडल यूनियन द्वारा दिए गए एजेंडे पर परिमंडल कार्यालय , भोपाल में आज 25.5.2017 को चर्चा होगी।

डाऊनलोड कीजिए

उज्जैन के कॉन्ट्रैक्ट वर्कर के निधन के प्रकरण में CHQ ने भी पत्र लिखा

उज्जैन के कॉन्ट्रैक्ट वर्कर कॉम धनपाल के प्रकरण में महासचिव कॉम पी अभिमन्यु ने डायरेक्टर एच आर श्रीमती सुजाता रे से मुलाकात कर उक्त प्रकरण में दिवंगत कॉम धनपाल के परिजनों को मुआवजा देने के साथ श्रम कानूनों का उल्लंघन करनेवाले अधिकारियों पर कार्यवाही की मांग की । इस संबंध में उन्होंने डायरेक्टर एच आर को पत्र भी दिया।

डाऊनलोड कीजिए

GPF फंड बाबद

कॉम पी अभिमन्यु, महासचिव , बीएसएनएल ईयू ने डायरेक्टर फाइनेंस को मई माह में जीपीएफ भुगतान हेतु कॉर्पोरेट आफिस से सभी सर्कल्स को शीघ्र फंड जारी करने के लिए पत्र लिखा है।

डाऊनलोड कीजिए

22 मई 2017 को परिमंडल में हुआ ऐतिहासिक प्रदर्शन

19 मई को काली पट्टी लगा कर कार्य करने के बाद 22 मई के प्रदर्शन में कर्मचारियों ने उत्साह के साथ शिरकत कर प्रदर्शन को ऐतिहासिक रूप से सफल बनाया। 42 डिग्री तापमान के बावजूद सभी एसएसए में कर्मचारियों ने बड़ी संख्या में उपस्थित हो कर अपने रोष का इज़हार किया।

सभी एसएसए में सहयोगी संगठन SNEA, AIBSNLEA, AIGETOA, SEWA BSNL, FNTO, TEPU, ABLE के लीडर्स के साथ साथ सदस्यों ने भी प्रदर्शन में शामिल हो कर हमारा उत्साह वर्धन किया। SNEA के सर्कल सेक्रेटरी कॉम एस दत्ता मजूमदारजी ने भोपाल में प्रदर्शन में हिस्सा लिया। उन्होंने हमारे आंदोलन के समर्थन में सीजीएम को पत्र दे कर हमारे संघर्ष को मज़बूती प्रदत्त की। कॉम मजूमदार का इस हेतु आभार। इंदौर में सेवा के सर्कल सेक्रेटरी कॉम जगन बोरियाजी ने जोश भरा उद्बोधन दिया। कॉम परवेज़, सर्कल सेक्रेटरी, AIBSNLEA  ने भी हमें हमारे साथ रहने का विश्वास दिलाते हुए आंदोलन की सफलता हेतु शुभकामनाएं दी है। सभी का आभार।

महिला शक्ति बीएसएनएल ईयू का संबल है। प्रदर्शन में सभी एसएसए में महिला साथियों की उत्साह से ओतप्रोत उपस्थिति रही। उनका विशेष आभार।

प्रदर्शन की सफलता में हमारे असंख्य सदस्यों की उपस्थिति ने आंदोलन को अभूतपूर्व बनाया।

हम हमारे नेतृत्वकर्ताओं, सहयोगी संगठनों के लीडर्स/ मेंबर्स, हमारे सदस्यों के उनके द्वारा प्रदत्त सहयोग के लिए शुक्रगुज़ार हैं।

सभी सहयोगियों की प्रशंसनीय भूमिका के लिए...

सभी का शुक्रिया... दिल से

अब 27 मई को

"सीजीएम ऑफिस पर हल्ला बोल" कार्यक्रम भी अभूतपूर्व होगा..विश्वास है हमें। आप सब जो साथ है हमारे।

SNEA का समर्थन पत्र डाऊनलोड कीजिए

बीएसएनएल ईयू के आव्हान पर परिमंडल में 22.5.2017 को हुआ अभूतपूर्व प्रदर्शन

27 मई 2017 को सीजीएम ऑफिस पर " हल्लाबोल " के प्रति भी जबरदस्त उत्साह

चित्रमय झलकियां डाऊनलोड कीजिए

Balaghat      Narsingpur      Rewa      Panna      Khargone      Ratlam      Circle Office      Hoshangabad      Jabalpur      Sagar      Dhar      Satna      Khandwa      Rajgarh Beora      Chhatarpur      Mandsaur      Raisen      Dewas      Gwalior      Shivpuri      Chhindwara      Seoni      Balaghat      Muraina      GMT Bhopal      Ujjain      Indore     

हमारा आंदोलन और अखबारों का नज़रिया

चित्रमय झलकियां डाऊनलोड कीजिए

उज्जैन में हमारे एक साथी कॉन्ट्रैक्ट वर्कर का करंट लगने से निधन

उज्जैन में भरतपुरी एक्सचेंज में इलेक्ट्रिक सेक्शन में कार्यरत एक कॉन्ट्रैक्ट वर्कर श्री धनपाल यादव  8 मई 2017 को करंट लगने से बुरी तरह झुलस गए थे। उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती करवाया गया किन्तु 12 मई को उन्होंने दम तोड़ दिया।

उज्जैन बीएसएनएल ईयू के जिला सचिव कॉम मनोज शर्मा ने इसका तत्काल संज्ञान लिया। उन्होंने तुरंत उज्जैन महाप्रबंधक को पत्र लिख कर दिवंगत श्री यादव के परिवार को आर्थिक सहायता मुहैय्या करवाने की मांग की। प्रथम दृष्टया जानकारी लेने पर कॉम मनोज को पता चला कि कांट्रेक्टर द्वारा स्वर्गीय श्री यादव के प्रकरण में श्रम कानूनों का पालन नहीं किया गया है और प्रबंधन ने भी कांट्रेक्टर के बिल आंख मूंद कर स्वीकृत किये हैं। EPF का कटौत्रा नही होना आपराधिक कृत्य की श्रेणी में आता है।

उपर्युक्त प्रकरण में परिमंडल सचिव ने मुख्य महाप्रबंधक महोदय को पत्र लिख कर श्रम कानून के उल्लंघन में शामिल सभी दोषियों पर जांच पश्चात कार्यवाही करने और दिवंगत वर्कर के परिवार को आर्थिक सहायता करने और पूर्ण न्याय दिलाने की मांग की है।

बीएसएनएल एम्प्लाइज यूनियन श्रम कानूनों का पालन करने एवं कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स के लिए कॉर्पोरेट ऑफिस द्वारा जारी दिशा निर्देशों को सख्ती से लागू करने हेतु परिमंडल के उच्च प्रबंधनसे अनुरोध करती रही है। परिमंडल में 19 मई से शुरू हो चुके आंदोलन के नोटिस में भी यह मुद्दा शामिल है। किंतु लगभग लगभग सभी एसएसए में इसकी अनदेखी हो रही है।

कार्यरत रहते हुए एक साथी का निधन हो जाना एक गंभीर मुद्दा है और श्रम कानूनों का उल्लंघन एक अक्ष्यम अपराध भी।

बीएसएनएल ईयू प्रकरण की निष्पक्ष जांच करवा कर दिवगंत कर्मी के परिवार को न्याय दिलाने के लिए हर संभव कोशिश करेगी।

पत्र डाऊनलोड कीजिए

परिमंडल में आंदोलन का शंखनाद

परिमंडल में आज से शुरू आंदोलन के प्रथम चरण में कर्मचारियों ने जबरदस्त उत्साह प्रदर्शित किया। सभी एसएसए में कर्मचारियों ने मध्यप्रदेश के परिमंडल प्रबंधन की उपभोक्ता, कर्मचारी एवं बीएसएनएल के हित में बीएसएनएल ईयू द्वारा प्रेषित विभिन्न मांगों के निराकरण में उदासीनता के खिलाफ अपना रोष प्रकट करने के लिए काली पट्टी लगा कर कार्य किया।

परिमंडल यूनियन के निर्देशानुसार जिला सचिवों ने अपने प्रतिनिधि मंडल के साथ एसएसए प्रमुखों को मांगपत्र की प्रति सौंपी।

आंदोलन में आज जिस जोश का प्रदर्शन हमारी टीम ने किया है उससे यह स्पष्ट है कि 22 मई 2017 को बड़ी संख्या में उपस्थित हो कर वे प्रदर्शन को सफल बनाएंगे।

27 मई को सीजीएम ऑफिस पर  "हल्ला बोल" कार्यक्रम में भी भारी तादात में हमारे साथी भोपाल पहुंच रहे हैं।

इंकलाब जिंदाबाद...

कुछ जिलों से प्राप्त चित्रमय झलकियां...

नरसिंहपुर      सतना      सर्कल ऑफिस      मंदसौर      भोपाल जीएमटी      पन्ना      इंदौर      खंडवा      रायसेन      उज्जैन      छिंदवाड़ा      खरगोन      बालाघाट      धार      जबलपुर      राजगढ़ ब्यावरा      देवास      सागर     

कॉ मोनी बोस को लाल सलाम

आज ही के दिन कॉ मोनी बोस दिवंगत हुए थे। बीएसएनएलईयू के प्रेरणा स्त्रोत मोनी दा को हम श्रद्धा के साथ स्मरण करते हैं। मध्य प्रदेश परिमंडल यूनियन उनके द्वारा दर्शाये मार्ग का अनुसरण करने के लिए कृत संकल्पित है।

कॉ मोनी बोस को लाल सलाम।

कॉ मोनी बोस अमर रहे।

प्रबन्धन ने किया आंदोलन न करने का आग्रह

परिमंडल प्रबंधन ने पत्र लिख कर सूचित किया है कि यूनियन द्वारा प्रस्तुत समस्याओं का निदान किया जा रहा है। पत्र में कहा गया है कि सफाई व्यवस्था का जायजा लेने के लिए परिमंडल कार्यालय से सभी एसएसए में अधिकारी भेजे जा रहे हैं। इसकी शुरुआत इंदौर से हो चुकी है, जहां 17 एवं 18 मई को ए जी एम ( ओ &एम ) को भेजा गया है। रूल 8 के ट्रांसफर हेतु कार्यवाही की जा रही है, एससी एसटी का रिजल्ट रिव्यु कर दिया है । पत्र में आश्वासित किया गया है कि सभी समस्याओं का निराकरण कर दिया जायेगा। अंत में सेवाओं का हवाला देते हुए पत्र में आंदोलन न किए जाने का अनुरोध किया गया है।

परिमंडल सचिव ने जवाब दिया " खोखले आश्वासन पर आंदोलन वापिस नहीं होगा"...

प्रबंधन के आंदोलन वापसी के अनुरोध पत्र का जवाब देते हुए परिमंडल सचिव, बीएसएनएल ईयू ने स्पष्ट किया कि प्रबंधन समस्या निदान हेतु कितना गंभीर है यह इसी से स्पष्ट हो जाता है कि 10.10.2016 की मीटिंग में लिए गए निर्णय पर अभी कार्यवाही की जा रही है। परिमंडल सचिव ने लिखा कि पूर्व में रूल 8  ट्रांसफर के विषय में मार्च 2017 पश्चात् लिस्ट जारी किये जाने का आश्वासन दिया गया था, फिर कहा नहीं करेंगे और अब प्रबंधन कह रहा है कि ट्रांसफर कार्य प्रगति पर है। यह दयनीय स्थिति है। एससी एसटी के रिजल्ट रिव्यु  में भी अनावश्यक क्लेरिफिकेशन के इंतजार में विलम्ब हुआ। जवाब में हमने स्पष्ट कर दिया है कि अब खोखले आश्वासन नहीं ,हमें परिणाम चाहिए, खोखले आश्वासन से आंदोलन वापिस नहीं होगा।

यदि हमारी सभी डिमाण्ड पर अमल हो जाता है तो 27 मई पश्चात् आंदोलन को और उग्र करने के निर्णय पर विचार जरूर करेंगे, यह हमने हमारे जवाब में उल्लेखित जरूर किया है।

डाऊनलोड कीजिये

आंदोलन को सफल बनायें

सभी जिला सचिवों से अनुरोध है कि

  • हिंदी में सीजीएम को प्रेषित 3 पृष्ठीय मांग पत्र डाऊनलोड करें। 
  • मांग पत्र नोटिस बोर्ड़ पर लगावें, सदस्यों के बीच प्रचारित करें।
  • मांग पत्र की एक प्रति अपने एसएसए प्रमुख को देवें।
  • मांग पत्र के आधार पर जिला सचिव प्रेस नोट जारी करें।
  • सहयोगी संगठनों के नेतृत्वकर्ताओं व सदस्यों को नैतिक समर्थन का अनुरोध कर उन्हें 22 मई 2017 के प्रदर्शन में आमंत्रित करें।
  • ध्यान रखें, आंदोलन के प्रथम चरण में 19 मई 2017 को सभी कर्मचारी काली पट्टी लगा कर कार्य करेंगे। अपने कार्यस्थलों पर यूनियन के झंड़े, बैनर्स लगावें। 

परिमंडल प्रबंधन और स्थानीय प्रबंधन को अपनी संघर्ष शक्ति का एहसास करवाना जरूरी है। आंदोलन को सफल करवाने के लिए कमर कस लीजिए।

पुनः स्मरण करा दूं, गर्मी बढ़ती जा रही है, परिमंडल को गर्माने के लिए तैयार रहिए।

खामोशी जब जुर्म सी लगने लगे तो संघर्ष जरूरी हो जाता है

परिमंडल यूनियन द्वारा विभिन्न समस्याओं के निराकरण हेतु लगातार प्रयास किए जाते रहे हैं। असंख्य प्रकरणों में हम सफल भी हुए हैं, कई समस्याओं का संतोषजनक निदान भी हुआ है। किंतु कुछ मुद्दों पर प्रबंधन की उदासीनता से सदस्यों में असंतोष  बढ़ता जा रहा था। निराकरण योग्य प्रकरणों में भी प्रबंधन की चुप्पी चुभने लगी थी। बीएसएनएल की रिवाइवल प्रक्रिया में व्यवधान न हो इसलिए हम भी मार्च एन्ड तक आंदोलन करने के पक्षधर नही थे। बीएसएनएल ईयू किसी भी स्थिति में मार्च में बीएसएनएल के उन्नयन हेतु किए जा रहे प्रयासों में बाधक नही बनना चाहती थी। शायद,  बीएसएनएल के हित में हमारी इसी खामोशी को परिमंडल प्रबंधन ने हमारी कमजोरी समझ लिया था। ऐसी स्थिति में हमारी खामोशी हमे भी जुर्म सी लगने लगी थी। और खामोशी जब जुर्म का एहसास कराने लगे तो संघर्ष अवश्यम्भावी हो जाता है , शायद, बेहद जरूरी भी। नतीजतन , हमारी जायज मांगो के लिए हमने आंदोलन का नोटिस परिमंडल प्रबंधन को दे दिया है। आज सभी मुद्दों को समेकित कर विस्तृत मांग पत्र पुनः मुख्य महाप्रबंधक को प्रेषित किया है।

मांग पत्र डाऊनलोड कीजिए

NEPP के ऑप्शन के दौरान Snr TOA के पे स्केल को 7100 से 6550 पर डाउनग्रेड करने के मुद्दे पर सकारात्मक प्रगति

उपर्युक्त मुद्दे के निराकरण हेतु  बीएसएनएल ईयू लगातार प्रयासरत है। दिनांक 16.5.2017 को मैनेजमेंट और बीएसएनएल ईयू के बीच एक और वार्ता हुई। वार्ता में प्रबंधन की ओर से श्रीमती मधु अरोरा ( PGM Estt ) एवं श्री शिवशंकर प्रसाद ( DGM Estt ) ने और यूनियन की ओर से कॉम पी अभिमन्यु, महासचिव, बीएसएनएल ईयू एवं कोषाध्यक्ष कॉम गोकुल बोरा ने हिस्सा लिया। यूनियन प्रतिनिधिनियों ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि NEPP  में ऑप्ट करने के लिए Snr TOAs के लिए एक अनुचित शर्त के NEPP आदेश में उल्लेख के तहत NEPP का लाभ लेने के इच्छुक Snr TOAs को 1.10.2000 पश्चात लिए गए OTBP को फोरगो करना ( छोड़ना ) जरूरी था। कॉम पी अभिमन्यु ने मांग की कि इस शर्त को विलोपित कर Snr TOAs को हुए नुकसान की भरपाई की जाए। बीएसएनएल ईयू की मांग पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करते हुए , अंतिम निराकरण हेतु प्रकरण डायरेक्टर एच आर को प्रस्तुत करने का निर्णय लिया गया।

हमारा सीएचक्यू प्रत्येक लंबित प्रकरण के निराकरण हेतु गंभीर है और समय समय पर हर मुद्दे पर प्रबंधन से समस्या के निदान हेतु सीएचक्यू द्वारा शिद्दत के साथ प्रयास भी किए जाते हैं। बीएसएनएल ईयू के प्रयासों से जिला सचिव एवं अन्य पदाधिकारियों द्वारा सदस्यों को अवगत करवाया जाना चाहिए।

27 मई को चलो भोपाल... सीजीएम ऑफिस पर बीएसएनएलईयू का "हल्ला बोल"

विभिन्न लम्बित मांगों के निराकरण मे सर्कल प्रबंधन की उदासीनता के खिलाफ परिमंडल स्तर पर आंदोलन करने के इन्दौर मे उपलब्ध सेक्रेटरिएट की मीटिंग मे लिए गए निर्णय अनुसार मुख्य महाप्रबंधक को नोटिस दे दिया गया है। आंदोलन की रूपरेखा निम्नानुसार है।

19 मई 2017
कालीपट्टी लगाकर कार्य

22 मई 2017
एसएसए में जंगी प्रदर्शन

27 मई 2017
सी जी एम आफिस के समक्ष दोपहर 12 बजे से 04 बजे तक धरना एवं रोषपूर्ण  प्रदर्शन

इसके बाद , जैसा कि पूर्व में सूचित किया जा चुका है, आन्दोलन को और उग्र  करने का निर्णय 27 मई को धरना स्थल पर ही लिया जायेगा।

सभी जिलासचिव अपने साथियों के साथ सीजीएम आफिस पर हल्ला बोल के लिए तैयार रहें।

सभी जिला सचिवों एवं सर्कल पदाधिकारियों से अनुरोध है कि 27 मई को धरना-प्रदर्शन में बड़ी संख्या में अपने साथियों के साथ उपस्थित रहें। इसके पूर्व के 2 प्रोग्राम भी सफल करें। 22 मई को एसएसए में  जंगी प्रदर्शन हो , यह सुनिश्चित करें।

अवकाश एवं होमटाउन छोड़ने की अनुमति हेतु आवेदन जरूर दे कर आवें।

प्रकाश शर्मा

सर्कल सेक्रेटरी

बी एस रघुवंशी

सर्कल प्रेसिडेंट

 

बीएसएनएल रिटायरिज़ को कॅश मेडिकल अलाउंस हेतु ऑप्शन प्रक्रिया में देरी के विरोध में पत्र...

बीएसएनएल में कार्यरत एवं रिटायर्ड कर्मियों को बगैर वाउचर कॅश मेडिकल अलाउंस की सुविधा खर्च कटौती के  नाम पर बंद कर दी गयी थी। बीएसएनएल ईयू के लगातार प्रयासों के फलस्वरूप रिटायर्ड साथियों की आऊटडोर मेडिकल बिल प्रस्तुत करने की परेशानियों के मद्दे नज़र कॉर्पोरेट ऑफिस द्वारा उनके लिए बगैर वाउचर मेडिकल अलाउंस के भुगतान के आदेश जारी कर दिए गए हैं। आदेश के तहत बाह्य मेडिकल बिल हेतु देय राशि (एडमिसिबिल अमाउंट) की 50% राशि का भुगतान पूर्ववत 4 किश्तों में किया जायेगा। इस हेतु कोई बिल प्रस्तुत नहीं करना होगा।

इस सुविधा के लिए इच्छुक रिटायर्ड साथियों को ऑप्शन देना है। हमारे कई साथियों ने शिकायत की है कि उन्हें ऑप्शन फॉर्म हेतु दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कुछ एसएसए में इस बाबद कोई जानकारी ही नही है तो कुछ में ऑप्शन फॉर्म  उपलब्ध नही है।

इन परेशानियों के मद्देनजर परिमंडल सचिव कॉम प्रकाश शर्मा ने ऑप्शन प्रक्रिया में तत्परता की मांग करते हुए मुख्य महाप्रबंधक को पत्र लिखा है।

डाऊनलोड कीजिए

माननीय सीएमडी ने कहा - वेज रिवीजन के मसले पर प्रबंधन पूर्ण रूप से कर्मचारियों के साथ है

15.4.2017 को कॉम पी अभिमन्यु, महासचिव ने सीएमडी श्री अनुपम श्रीवास्तव से मुलाकात की। उन्होंने वेज रिवीजन के मुद्दे पर डॉट की ओरसे प्राप्त हो रहे निराशाजनक संकेतों को लेकर यूनियन की गंभीर चिंता से सीएमडी को अवगत कराया। कॉम अभिमन्यु ने उनसे आग्रह किया कि वेज सेटलमेंट के दौरान कर्मचारियों को अधिकतम लाभ दिलवाने के यूनियन के प्रयासों में प्रबंधन पूर्ण रूप से सहयोग करे। महासचिव ने उन्हें स्पष्ट रूप से यह भी कहा कि डॉट की ओरसे इस प्रकरण में मनाही की स्थिति में गंभीर परिणाम होंगे। इस पर माननीय सीएमडी ने कहा कि " वेज रिवीजन के मुद्दे पर मैनेजमेंट पूर्ण रूप से कर्मचारियों के साथ है। "

वेज रिवीजन हेतु कॉम पी अभिमन्यु ने डॉट सेक्रेटरी को पत्र लिखा

फोरम ऑफ बीएसएनएल यूनियन्स एंड एसोसिएशन्स ऑफ नॉन-एक्जीक्यूटिव्ज एंड एक्जीक्यूटिव्ज की ओरसे बीएसएनएल ईयू के महासचिव एवं फोरम संयोजक कॉम पी अभिमन्यु ने बीएसएनएल कर्मियों के वेज रिवीजन हेतु डॉट सेक्रेटरी को पत्र लिख कर उनके हस्तक्षेप की मांग की है।

पत्र में लिखा गया है कि तृतीय पी आर सी की अनुशंसाओं में अफोरडिबिलिटी क्लॉज़ की वजह से बीएसएनएल के कर्मचारियों अधिकारियों के वेज रिवीजन की संभावनाएं क्षीण हो गयी थी किन्तु इसी बिच हमे जानकारी मिली थी की बीएसएनएल कर्मियों एवं प्रबंधन द्वारा बीएसएनएल के रिवाइवल हेतु किए गए सफल साझा प्रयासों को दृष्टिगत रख कर डॉट ने बीएसएनएल कर्मियों के वेज रिवीजन हेतु सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाया है। किंतु हाल ही में डॉट द्वारा वेज रिवीजन को लेकर नकारात्मक रवैया अख्तियार किए जाने की जानकारी मिलने से कर्मचारियों में निराशा व्याप्त है। पत्र में डॉट सेक्रेटरी से हस्तक्षेप कर बीएसएनएल कर्मियों को न्याय दिलाने का अनुरोध किया गया है। अपने अनुरोध के पक्ष में कॉम पी अभिमन्यु ने निम्न तर्क प्रस्तुत किए हैं.....

  • बीएसएनएल की घाटे की वजह 2007 से 2012 के मध्य  एक्सपांशन हेतु उपकरण न मिलना एवं एक के बाद एक उपकरणों हेतु जारी किए गए टेंडर निरस्त किए जाना है। 
  • पूर्व संचार मंत्री माननीय रविशंकर प्रसाद ने भी 28.2.2015 को CNBC -TV 18  चैनल को दिए गए इंटरव्यू में स्पष्ट किया है कि सन 2005-2006 तक बीएसएनएल करोड़ों के मुनाफे में था किंतु इसके बाद बीएसएनएल एमटीएनएल के विस्तार हेतु पूर्ववर्ती सरकार द्वारा कोई प्रयास नहीं किये गए।
  • 2013 के बाद से स्थितियां परिवर्तित हुई है, बीएसएनएल के मोबाइल नेटवर्क का भी विस्तार हुआ है। कर्मचारियों अधिकारियों ने बीएसएनएल के रिवाइवल हेतु कस्टमर डिलाइट ईयर एवं स्वास जैसी योजनाओं के माध्यम से सेवा की गुणवत्ता में सुधार करते हुए राजस्व वृद्धि में भी प्रशंसनीय सफलता अर्जित की है। स्वप्रेरणा से बीएसएनएल के कर्मचारियों अधिकारियों ने 10.2.2017 से 31.3.2017 तक एक घंटा अतिरिक्त कार्य किया है। इसके अच्छे परिणाम मिले हैं एवं इन कोशिशों से बीएसएनएल के उपभोक्ताओं की संख्या में एवं राजस्व में वृद्धि हुई है।
  • कर्मचारियों , अधिकारियों एवं प्रबंधन के संयुक्त प्रयासों से सन 2014-15 का  रुपये 8234 करोड़ का लॉस कम हो कर 2015-16 में घट कर रूपये 3880 करोड़ रह गया है। ऑपरेशनल प्रॉफिट भी रु 672 करोड़ से बढ़ कर रु 3855 करोड़ हो गया है। बैलेंस शीट अलबत्ता रु 8817 करोड़ डेप्रिसिएशन शो करने से अभी भी नेगेटिव है। किन्तु साल-दर-साल कर्मचारियों अधिकारियों के प्रयासों से राजस्व में वृद्धि परिलक्षित हो रही है और बीएसएनएल मार्केट शेयर  की तालिका में भी छठे क्रम से चौथे क्रम पर पहुँच गया है।
  • बीएसएनएल रिवाइवल के पथ पर तीव्र गति से अग्रेसर हो रहा है और ऐसी स्थिति में बीएसएनएल के कर्मचारियों अधिकारियों को वेज रिवीजन से वंचित रखने से न केवल उनका मनोबल गिरेगा वरन बीएसएनएल के विकास की प्रक्रिया भी आहत होगी। अतः बीएसएनएल के कर्मचारियों अधिकारियों को 1.1.2017 से देय वेज रिवीजन की प्रक्रिया शुरु करने हेतु डॉट सेक्रेटरी का हस्तक्षेप निहायत जरुरी है।

पत्र डाऊनलोड कीजिए

श्रीमती अरुणा सुंदराराजन डॉट की नई सेक्रेटरी बनीं... स्वागतम

श्रीमती अरुणा सुंदराराजन , सेक्रेटरी, आईटी  को सेक्रेटरी डॉट का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है। श्रीमती अरुणा सुंदराराजन बीएसएनएल बोर्ड में गवर्नमेंट डायरेक्टर रह चुकी हैं। इस लिहाज से वें बीएसएनएल के घटना क्रम से वाकिफ़ हैं। उम्मीद हैं , वें बीएसएनएल एवं कर्मियों के प्रति सकारात्मक नज़रिया रखेंगी।

स्वागतम श्रीमती अरुणा सुंदराराजन.....!

EPF कॉन्ट्रिब्यूशन के एरियर की वसूली कर्मचारी के वेतन से न हो

1.10.2000 पश्चात नियुक्त कुछ कर्मचारियों के वेतन से प्रबंधन की त्रुटि से EPF कॉन्ट्रिब्यूशन के स्थान पर  GPF कॉन्ट्रिब्यूशन की रिकवरी की जा रही थी। हाल ही में प्रबंधन ने ऐसे सभी कर्मचारियों की GPF की रिकवरी बन्द कर EPF का कटौत्रा शुरू कर दिया है और EPF एरियर की रिकवरी भी शुरू कर दी है। यह EPF Act का सरेआम उल्लंघन है। बीएसएनएल ईयू ने इसका विरोध करते हुए प्रबंधन से एरियर राशि जमा करने की मांग की। इस मुद्दे पर नेशनल कौंसिल की 11 मई को सम्पन्न मीटिंग में हैदराबाद एवं उज्जैन के EPF Commissioner कार्यालय के पत्रों को भी प्रस्तुत किया गया। पत्र में कर्मचारी से एरियर राशि कर्मचारी से वसूल न किए जाने के स्पष्ट निर्देश है। स्टाफ साइड द्वारा प्रस्तुत तर्कों को सुनने के पश्चात कौंसिल चेयरपर्सन ने EPF एरियर प्रकरण में EPF Commissioner के पत्रों के अनुसार कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया है।

मध्यप्रदेश परिमंडल सचिव द्वारा भी इस प्रकरण में काफी पत्राचार किया गया है। हमारे उज्जैन जिला सचिव कॉम मनोज शर्मा ने अपने प्रयासों से EPF Commissioner कार्यालय से आवश्यक पत्र उपलब्ध कराया जिससे नेशनल कौंसिल में चर्चा कर निर्णय लेने में सहजता रही। कॉम मनोज का आभार।